Tuesday - 2018 April 24
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 80692
Date of publication : 15/8/2015 0:20
Hit : 213

ब्रिटेन सरकार ने की नेतनयाहू की गिरफ़्तारी की मांग

50000 हज़ार से ज़्यादा लोगों ने एक अर्ज़ी पर दस्तख़त किए हैं जिसमें ज़ायोनी प्रधान मंत्री बिनयामिन नेतनयाहू को युद्ध अपराध के लिए उस समय गिरफ़्तार करने की मांग की गई है जब वह अगले महीने ब्रिटेन के दौरे पर होंगे।


विलायत पोर्टलः 50000 हज़ार से ज़्यादा लोगों ने एक अर्ज़ी पर दस्तख़त किए हैं जिसमें ज़ायोनी प्रधान मंत्री बिनयामिन नेतनयाहू को युद्ध अपराध के लिए उस समय गिरफ़्तार करने की मांग की गई है जब वह अगले महीने ब्रिटेन के दौरे पर होंगे। यह अर्ज़ी ब्रितानी संसद की वेबसाइट पर प्रकाशित हुई है जिसमें 2014 में 2000 नागरिकों के जनसंहार के कारण लिकुड पार्टी के प्रमुख नेतनयाहू की, लंदन आगमन पर गिरफ़्तारी की मांग की गई है। ब्रितानी सरकार इस मांग का संभवतः जवाब देगी क्योंकि जिन अर्ज़ियों पर 50 हज़ार से ज़्यादा दस्तख़त होते हैं उस पर ध्यान दिया जाता है। इसके अलावा जिन अर्ज़ियों पर 1 लाख से ज़्यादा दस्तख़त होते हैं उसे ब्रितानी संसद बहस के लिए चुनती है। इस अर्ज़ी पर दस्तख़त की अंतिम समय सीमा 7 फ़रवरी 2016 है। इस्राईल ने इस अर्ज़ी के अर्थहीन होने का दावा करते हुए इसे ख़ारिज कर दिया है। ज़ायोनी विदेश मंत्री ने इस हफ़्ते के शुरु में एक बयान में कहा है कि यह अर्ज़ी पब्लिक रिलेशन्ज़ इक्सर्साइज़ है। ब्रिटेन और इस्राईल के बीच संबंध पहले की तुलना में अधिक मज़बूत हैं। ज्ञात रहे इस्राईल ने पिछले साल जुलाई के शुरु में ग़ज़्ज़ा पर 50 दिवसीय युद्ध थोपा था जो मिस्र की राजधानी क़ाहेरा में फ़िलिस्तीनी और इस्राइली पक्षों के बीच अप्रत्यक्ष बातचीत से होने वाले संघर्ष विराम के नतीजे में 26 अगस्त को रुका था। इस युद्ध में लगभग 2200 फ़िलिस्तीनी शहीद हुए जिनमें 557 बच्चे थे। इसी तरह इस युद्ध में 3374 बच्चों, 2088 औरतों तथा 410 बूढ़े लोगों सहित 11000 से ज़्यादा फ़िलिस्तीनी घायल हुए थे।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :