Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 80633
Date of publication : 13/8/2015 19:21
Hit : 302

चरमपंथ सारी दुनिया के लिए गंभीर ख़तराः ज़रीफ़

जवाद ज़रीफ़ ने कहा है कि अतिवाद न केवल मध्यपूर्व के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए गंभीर ख़तरा है।

विलायत पोर्टलः जवाद ज़रीफ़ ने कहा है कि अतिवाद न केवल मध्यपूर्व के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए गंभीर ख़तरा है। विदेशमंत्री जवाद ज़रीफ़ ने अपने एक लेख में अतिवाद को पूरी दुनिया के लिए गंभीर ख़तरा बताया है। तुर्की के जुम्हूरियत समाचारपत्र में प्रकाशित जवाद ज़रीफ़ के लेख में आया है कि अतिवाद या आतंकवाद की कोई सीमा नहीं है। उन्होंने कहा कि यह ऐसी बुराई है जो अपने विध्वंसकारी असर डालती है। जवाद ज़रीफ़ ने अपने लेख में लिखा है कि इराक़ पर अमरीका के हमले के बाद और अलक़ाएदा से संबंधित गुटों के अस्तित्व में आने पर इराक़ में आतंकवाद ने नया रूप ले लिया है और वह अब आईएसआईएल के रूप में मौजूद है। ईरान के विदेशमंत्री ने ज़ोर देकर कहा है कि जनसंहार, बलात्कार, लोगों के गले काटना, लोगों को अपना धर्म परिवर्तन करने के लिए धमकाना और मजबूर करना, तकलीफ़े देना, महिलाओं और पुरूषों को ग़ुलाम बनाना और इसी तरह के दूसरे बहुत से जघन्य अपराध जिन्हें आईएसआईएल की तरफ़ से सोशल मीडिया पर प्रसारित एवं प्रचारित किया जाता है, आतंकवाद के ही रूप हैं। जवाद ज़रीफ़ ने अपने लेख में कहा है कि औद्योगिक देशों सहित विश्व के लगभग 90 देशों के लोगों द्वारा आईएसआईएल की सदस्यता, गंभीर चेतावनी है। उन्होंने कहा कि हालिया वर्षों के दौरान इस्लामी देशों में सैनिक और राजनैतिक हस्तक्षेप से अजीब परिस्थतियां पैदा हुई हैं और इन्ही परिस्थितियों ने अतिवादी गुटों को अस्तित्व प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। जवाद ज़रीफ़ के लेख में आया है कि अब सब ही इस विषय पर एकमत हैं कि अमरीका द्वारा इराक़ के अतिग्रहण से ही अतिवादी गुटों को पनपने में सहायता मिली है और यह एक बहुत बड़ी ऐतिहासिक ग़लती थी। जवाद ज़रीफ़ के अनुसार वर्तमान समय में मध्यपूर्व में सक्रिय यह आतंकवादी एवं अतिवादी तत्व इतने सशक्त हो गए हैं कि जिसका अनुमान उनके आक़ाओं को 2001 में बिल्कुल नहीं था। यह ऐसी हक़ीक़त है जिसका कोई भी इन्कार नहीं कर सकता।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अमेरिका यमन युद्ध के नाम पर सऊदी अरब से वसूली को तैयार सऊदी अरब का युवराज मोहम्मद बिन सलमान है जमाल ख़ाशुक़जी का हत्यारा : निक्की हैली अमेरिका में पढ़ने वाले ईरानी अधिकारियों के बच्चों को निकालेगा वाशिंगटन दमिश्क़ का ऐलान,अपना उपग्रह लांच करने के लिए तैयार है सीरिया । ख़ाशुक़जी कांड से हमारा कोई संबंध नहीं , सेंचुरी डील पर ध्यान केंद्रित : जॉर्ड किश्नर हिज़्बुल्लाह - इस्राईल तनाव, लेबनान ने अवैध राष्ट्र सीमा पर सेना तैनात की । सेना की संभावित कार्रवाई से नुस्राह फ्रंट में दहशत, बु कमाल में मिली सामूहिक क़ब्रें आले सऊद और अरब शासकों को उलमा का कड़ा संदेश, इस्राईल से संबंधों को बताया हराम इस्राईल से मधुर संबंधों की होड़ लेकिन क़तर से संबंध सामान्य न करने पर ज़ोर ! काबे के सेवक इस्लाम दुश्मनों से दोस्ती और मुसलमानों से दुश्मनी न करें : आयतुल्लाह ख़ामेनई ईरान को झुकाने की हसरत अपनी क़ब्रों में ले जाना : आईआरजीसी हिज़्बुल्लाह के साथ खड़ा है लेबनान का क्रिश्चियन समाज : इलियास मुर्र ओमान के आसमान में उड़ान भरेंगे इस्राईल के विमान ज़ायोनी आतंक, पोस्टर लगा कर दी फ़िलिस्तीनी राष्ट्रपति की हत्या की सुपारी । महिलाओं के अधिकार, इस्लाम और आधुनिक सभ्यता की निगाह में