Tuesday - 2018 April 24
Languages
Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 80248
Date of publication : 7/8/2015 12:13
Hit : 344

पाबन्दियां भी ईरान को बातचीत के लिए मजबूर नहीं कर सकीः ओबामा

अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा है कि कई दशकों की पाबन्दियां भी ईरान को वर्ता की मेज़ पर नहीं ला सके।


विलायत पोर्टलः अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा है कि कई दशकों की पाबन्दियां भी ईरान को वर्ता की मेज़ पर नहीं ला सके। बराक ओबामा ने कहा है कि वे लोग जो यह कह रहे हैं कि हम परमाणु सहमति से अलग हो जाएं और ईरान के विरुद्ध अधिक पाबन्दियां लगाएं वे किसी ग़लतफ़हमी का शिकार हैं। उन्होंने कहा कि पिछले कई दशकों के पाबन्दियां भी ईरान को वार्ता की मेज़ पर नहीं ला सके। अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा ने अपने संबोधन में उन लोगों की आलोचना की जो ईरान के साथ हुई परमाणु सहमति का विरोध कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बहुत से वे लोग जो इराक़ युद्ध के लिए तर्क पेश किया करते थे वे ही ईरान के साथ परमाणु सहमति के विरोध में तर्क दे रहे हैं। बराक ओबामा ने कांग्रेस से मांग की है कि अगले महीने मतदान के समय वह परमाणु मामले पर बनी सहमति के मार्ग में बाधा न बने। उन्होंने कहा कि इस सहमति का विरोध करके कांग्रेस, बम बनाने हेतु ईरान का मार्ग प्रशस्त करेगी। ओबामा ने कहा कि हमें शब्दों से नहीं खेलना चाहिए। उन्होंने कहा कि अब हमें कूटनीति और युद्ध में से एक विकल्प को चुनना है। उन्होंने कहा कि यदि परमाणु सहमति के प्रस्ताव को रद्द कर दिया जाता है तो हम मध्यपूर्व में एक दूसरे युद्ध में फंस सकते हैं। अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि इराक़ पर हमले के फैसले को अब एक दशक का समय हो चुका है और हम अब भी उसके दुष्परिणामों को भुगत रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस बार हमें अपनी विदेश नीति के बारे में उचित ढंग से सोचने की आवश्यकता है। अमरीकी राष्ट्रपति ओबामा ने इस्राईल को परमाणु सहमति का धुर विरोधी बताते हुए कहा कि यह सहमति, अन्य विकल्पों में न केवल सबसे अच्छा विकल्प है बल्कि अबतक होने वाला सबसे मज़बूत समझौता है। उन्होंने कहा कि इस्राईल के अतिरिक्त सब ने इसका समर्थन किया है।
................
तेहरान रेडियो


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :