Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 188273
Date of publication : 9/7/2017 15:15
Hit : 193

असद और देश के भविष्य का फैसला जनता करेगी रेक्स टेलेर्सन नहीं : पुतिन

सीरिया में शांति स्थापना के लिए ईरान, तुर्की और असद सत्ता पर भरोसा करते हुए अधिक क़दम उठाने के आवश्यकता है ।


विलायत पोर्टल :
प्राप्त जानकारी के अनुसार रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि सीरिया को लेकर अमेरिका की नीतियों में कोई बदलाव नहीं आया है हालाँकि पश्चिमी सीरिया में शांति स्थापना को लेकर सहमति बन चुकी है लेकिन हम चाहते हैं के देश के तमाम संकटग्रस्त क्षेत्रों में शांति स्थापना हो । उन्होंने कहा कि सीरिया और राष्ट्रपति बश्शार असद के भविष्य का फैसला देश की जनता करेगी अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टेलेर्सन नहीं । व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि सीरिया में शांति स्थापना के लिए ईरान, तुर्की और असद सत्ता पर भरोसा करते हुए अधिक क़दम उठाने के आवश्यकता है । उन्होंने क़तर संकट पर वार्ता करते हुए कहा कि यह संकट अरब देशों के लिए गंभीर समस्या खड़ी कर सकता है ।
.............
तसनीम


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान को झुकाने की हसरत अपनी क़ब्रों में ले जाना : आईआरजीसी हिज़्बुल्लाह के साथ खड़ा है लेबनान का क्रिश्चियन समाज : इलियास मुर्र ओमान के आसमान में उड़ान भरेंगे इस्राईल के विमान ज़ायोनी आतंक, पोस्टर लगा कर दी फ़िलिस्तीनी राष्ट्रपति की हत्या की सुपारी । महिलाओं के अधिकार, इस्लाम और आधुनिक सभ्यता की निगाह में ईरान पर कोई प्रभाव नहीं ड़ाल पाएंगे अमेरिकी प्रतिबंध : स्ट्रैटफोर सऊदी हमलों की मार झेल रहे यमन में 2 करोड़ लोग भूख से प्रभावित,लाखों बच्चों की मौत अवैध राष्ट्र के गठन के 30 साल पहले से ज़ायोनी मूवमेंट के लिए काम कर रहे हैं आले सऊद : इस्राईली सांसद स्नूकर प्लेयर ने इस्राईली खिलाड़ी के साथ खेलने से किया इंकार हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे