Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 188251
Date of publication : 8/7/2017 15:5
Hit : 232

बेशर्मी पर उतरी आले खलीफा सरकार, आयतुल्लाह शैख़ क़ासिम के घर के निकट औरतों पर हमला ।

यह महिलाएं सरकारी अत्याचारों का शिकार शैख़ ईसा क़ासिम के परिवार का हालचाल लेने जा रही थी ।

विलायत पोर्टल :
  प्राप्त जानकारी के अनुसार बहरैन तानाशाही ने बेशर्मी की सारी सीमायें लांघते हुए नज़रबंद किये गए देश के आध्यात्मिक पेशवा आयतुल्लाह शैख़ ईसा क़ासिम के घर जा रही महिलाओं पर बर्बर हमला किया । सूत्रों के अनुसार यह महिलाएं सरकारी अत्याचारों का शिकार शैख़ ईसा क़ासिम के परिवार का हालचाल लेने जा रही थी । याद रहे कि शैख़ ईसा क़ासिम एक लम्बे समय से बहरैनी तानाशाही की नज़रबंदी में जीवन व्यतीत कर रहें हैं लेकिन अभी तक उनकी कोई खैर खबर नही है। बहरैन वासी एक मुद्दत से बहरैन तानाशाही के अत्याचारों से पीड़ित हैं, खलीफाई सैनिक शैख़ ईसा क़ासिम के घर के बाहर एकत्रित लोगों से कठोरता से पेश आ रही है तथा शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों पर अत्याचार ढा रही है।
..................
 फानूस


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

अवैध राष्ट्र ने लगाई गुहार, लेबनान सेना पर दबाव बनाए अमेरिका । अमेरिकी गठबंधन आतंकी संगठनों की मदद से सीरिया के तेल संपदा को लूटने में व्यस्त । मासूमा ए क़ुम स.अ. की शहादत के शोक में डूबा ईरान, क़ुम समेत देश भर में मातम । अमेरिका ने स्वीकारा, असद को पदमुक्त करना उद्देश्य नहीं । सिर्फ दो साल, और साठ हज़ार लोगों की जान ले चुका है यमन संकट । हमास ने दिया इस्राईल को गहरा झटका, पकडे गए ड्रोन विमानों का क्लोन बनाया । आले सऊद की काली करतूत, क़तर पर हमला कर हड़पने की साज़िश का भंडाफोड़ । रूस मामलों में पोम्पियो की कोई हैसियत नहीं, अमेरिका की विदेश नीति का भार जॉन बोल्टन के कंधों पर : लावरोफ़ सऊदी अरब की सैन्य टुकड़ियां हैं आईएसआईएस और नुस्राह फ्रंट । ज़ायोनी सेना की गतिविधियां तेज़, लेबनान सेना ने अलर्ट । अय्याश सऊदी युवराज और मोहमद बिन ज़ायद पॉप गायिका मैडोना की राह पर, ली क़बालाह की शरण ईरान फ़ातेह और सहंद के बाद विशालकाय पनडुब्बी बनाने के लिए तैयार। इमाम हसन असकरी अ.स. के बाद सामने आने वाले फ़िर्क़े कुर्दों को अर्दोग़ान की धमकी, बंकरों को कुर्द लड़ाकों का मज़ार बन दूंगा । नोबेल विजेता की मांग, यमन युद्ध का हर्जाना दें सऊदी अरब और अमीरात ।