Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 188152
Date of publication : 3/7/2017 15:37
Hit : 244

दाइश के विनाश के बाद इराक मे एक भी विदेशी सैनिक नहीं रहेगा : अम्मार हकीम

देश में कोई एक भी विदेशी सैनिक नहीं रहेगा और न ही किसी देश का कोई सैन्य अड्डा ।दाइश के विनाश के बाद बग़दाद किसी देश को यह आज्ञा नहीं देगा कि उसका एक भी सैनिक इराक में रहे।


विलायत पोर्टल :
इराक के महत्वपूर्ण राजनैतिक दल इस्लामिक सुप्रीम कॉउंसिल ऑफ़ इराक के प्रमुख अम्मार हकीम ने कहा है कि इराक में दाइश के विनाश के बाद देश में कोई एक भी विदेशी सैनिक नहीं रहेगा और न ही किसी देश का कोई सैन्य अड्डा । इस्लामिक सुप्रीम कॉउंसिल ऑफ़ इराक तथा इराकी नेशनल एलायंस गठबंधन के प्रमुख अम्मार हकीम ने कहा कि दाइश के विनाश के बाद बग़दाद किसी देश को यह आज्ञा नहीं देगा कि उसका एक भी सैनिक इराक में रहे । सिर्फ इराकी फ़ौज और इराकी स्वंयसेवी बल इराक में सैन्य रूप से उपस्थित रहेंगे । हम एक पल के लिए भी इराक को विभाजित करने का सोचने वालों को अपनी धरती पर नहीं रहने देंगे ।
..............
फॉर्स


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

ईरान को झुकाने की हसरत अपनी क़ब्रों में ले जाना : आईआरजीसी हिज़्बुल्लाह के साथ खड़ा है लेबनान का क्रिश्चियन समाज : इलियास मुर्र ओमान के आसमान में उड़ान भरेंगे इस्राईल के विमान ज़ायोनी आतंक, पोस्टर लगा कर दी फ़िलिस्तीनी राष्ट्रपति की हत्या की सुपारी । महिलाओं के अधिकार, इस्लाम और आधुनिक सभ्यता की निगाह में ईरान पर कोई प्रभाव नहीं ड़ाल पाएंगे अमेरिकी प्रतिबंध : स्ट्रैटफोर सऊदी हमलों की मार झेल रहे यमन में 2 करोड़ लोग भूख से प्रभावित,लाखों बच्चों की मौत अवैध राष्ट्र के गठन के 30 साल पहले से ज़ायोनी मूवमेंट के लिए काम कर रहे हैं आले सऊद : इस्राईली सांसद स्नूकर प्लेयर ने इस्राईली खिलाड़ी के साथ खेलने से किया इंकार हिज़्बुल्लाह के ख़िलाफ़ इस्राईल ने कोई क़दम उठाया तो पूरा मिडिल ईस्ट सुलग जाएगा : नेशनल इंटरेस्ट यूरोप ईरान के साथ वैज्ञानिक और आर्थिक सहयोग बढ़ाने को उत्सुक : जर्मनी अफ़ग़ानिस्तान में शांति स्थापना के लिए ईरान का किरदार बहुत महत्वपूर्ण । वालेदैन के हक़ में दुआ हिज़्बुल्लाह के खिलाफ युद्ध की आग भड़काने पर तुला इस्राईल, मोसाद और ज़ायोनी सेना आमने सामने इराक की दो टूक, किसी भी देश के ख़िलाफ़ देश की धरती का प्रयोग नहीं होने देंगे