Delicious facebook RSS दोस्तों को भेजें। प्रिंट सेव करें। XML TEXT PDF
Code : 186086
Date of publication : 7/3/2017 19:33
Hit : 377

यमन में सऊदी अत्याचारों की बलि चढ़ते बच्चे और मूकदर्शक बना विश्व समुदाय।

२० लाख से ज़्यादा बच्चों को कुपोषण और भुखमरी के कारण तत्काल चिकित्सीय सहायता की ज़रूरत है । रिपोर्ट के अनुसार यमन के मात्र ४५% अस्पताल अपनी क्षमतानुरूप कार्य कर पा रहे हैं लेकिन वह भी फालिज से पीड़ित ५० लाख बच्चों के लिए टीकों की व्यवस्था करने में असमर्थ हैं ।

विलायत पोर्टल : कोई दिन नहीं गुज़रता जब दुनिया के किसी न किसी कोने से यमन वासियों, विशेष रूप से बच्चों पर हो रहे अत्याचारों के विरुद्ध आवाज़ न उठती हो। ३ लाख पीड़ित लोगों के लिए चिकित्सीय सहायता लेकर यमन जा रहे SAVE THE CHILDERN नामक मानवाधिकार संगठन को सऊदी अरब के नेतृत्व वाले अत्याचारी गठबंधन द्वारा अल हदीदह बंदरगाह पर रोके जाने के दो दिन बाद संयुक्त राष्ट्र ने सनआ के एक अस्पताल की तस्वीरें प्रकाशित की थी जिससे यहाँ व्याप्त मानवीय संकट की भयावह स्थिति का पता चलता है।
रिपोर्ट के अनुसार यमन की चिकित्सा प्रणाली बर्बाद हो गई है तथा यहां लाखों लोग भुखमरी और कुपोषण का शिकार हैं। २० लाख से ज़्यादा बच्चों को कुपोषण और भुखमरी के कारण तत्काल चिकित्सीय सहायता की ज़रूरत है। रिपोर्ट के अनुसार यमन के मात्र ४५% अस्पताल अपनी क्षमतानुरूप काम कर पा रहे हैं लेकिन वह भी फालिज से पीड़ित ५० लाख बच्चों के लिए टीकों की व्यवस्था करने में असमर्थ हैं। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार सऊदी अत्याचारों से पीड़ित इस देश को सभी विदेशी डॉक्टर्स और नर्स छोड़ कर जा चुके हैं।

.......................
अलआलम टीवी


आपका कमेंट



मेरा कमेंट शो न किया जाये
Security Code :

नवीनतम लेख

जॉर्डन के बाद संयुक्त अरब अमीरात ने दमिश्क़ से राजनयिक संबंध बहाल करने की इच्छा जताई क़ुर्आन की तिलावत की फ़ज़ीलत और उसका सवाब ट्रम्प को फ्रांस की नसीहत, हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करे अमेरिका । तुर्की अरब जगत के लिए सबसे बड़ा ख़तरा : अब्दुल ख़ालिक़ अब्दुल्लाह आतंकवाद से संघर्ष का दावा करने वाला अमेरिका शरणार्थियों पर हमले बंद करे : मलाला युसुफ़ज़ई बिन सलमान इस्राईल का सामरिक ख़ज़ाना, हर प्रकार रक्षा करें ट्रम्प : नेतन्याहू लेबनान इस्राईल सीमा पर तनाव, लेबनान सेना अलर्ट हिज़्बुल्लाह की पहुँच से बाहर नहीं है ज़ायोनी सेना, पलक झपकते ही नक़्शा बदलने में सक्षम हिंद महासागर में सैन्य अभ्यास करने की तैयारी कर रहा है ईरान हमास से मिली पराजय के ज़ख्मों का इलाज असंभव : लिबरमैन भारत और संयुक्त अरब अमीरात डॉलर के बजाए स्वदेशी मुद्रा के करेंगे वित्तीय लेनदेन । सामर्रा पर हमले की साज़िश नाकाम, वहाबी आतंकियों ने मैदान छोड़ा फ़्रांस, प्रदर्शनकारियों को कुचलने के लिए टैंक लेकर सड़कों पर उतरे सुरक्षा बल । अमेरिका ने दुनिया को बारूद का ढेर बना दिया, अलक़ायदा और आईएसआईएस अमेरिका की देन : ज़रीफ़ क़ुर्आन की निगाह में इंसान की अहमियत